Featured Post

द्वादश ज्योतिर्लिंग -[भाग-6]-महाकालेश्वर

‘ ऊँ महाकाल महाकाय , महाकाल जगत्पते। महाकाल महायोगिन् ‌ महाकाल नमोऽस्तुते॥ - महाकाल स्त्रोत(महाकाय, जगत्पति, महायोगी महाकाल को नमन) ...

महात्मा गांधी राष्ट्रीय स्मारक

aga1
ऐतिहासिक  भवन आगा खान पैलेस भारत के स्वतंत्रता आंदोलन का एक राष्ट्रीय स्मारक है.यह महाराष्ट्र  राज्य के पुणे  शहर में स्थित है.इसे 'महात्मा गांधी राष्ट्रीय स्मारक'  के नाम से भी जाना जाता है.
आगा खान महल  को १८९२ में सुल्तान मोहमद शाह आगा खां तृतीय ने इसे बनवाया था,इसे बनवाने का उद्देश्य सूखा पीड़ित प्रजा को रोज़गार देना था.
इसे बनाने में ५ साल और १२ लाख रूपये खर्च हुए थे. ६.५ हेक्टेयर में फैले  हुए   इस भवन की खूबसूरत  वास्तुकला इटालियन है.सुन्दर उद्यान भी यहाँ देख सकते हैं .कुल मिला कर १९ एकड़ में यह  दो मंजिला महल फैला हुआ  है.

१९६९ में, सुलतान आगा खां चतुर्थ ने इसे गांधी स्मारक समिति [भारत सरकार] को दान दे दिया था.
aga6aga9
इस भवन का ऐतिहासिक महत्व इसलिए है क्यूंकि यहाँ भारत छोड़ो आंदोलन के शुरू करने के जुर्म में ब्रिटिश सरकार ने  १९४२ में  गांधीजी को यहाँ कैद कर के २१ महीने रखा था.
महादेव देसाई जिन्हें  लोग प्राय: महात्मा गांधी के निजी सचिव के रूप में जानते हैं उन्हें भी ९ अगस्त १९४२ में ही यहाँ बंदी बना कर लाया गया.महादेव जी को गांधी जी का दाहिना हाथ माना जाता था.
उस समय यहाँ महात्मा गांधी ही  नहीं  सरोजनी नायडू ,प्यारे लाल नय्यर,सुशीला नय्यर एवं मीराबेन भी कैद थीं.6 मई 1944 को गांधी जी की  पत्नी कस्तूरबा को भी यहीं कैदी बना कर रखा गया था.
aga8aga13
इसी भवन में  14 और 15 अगस्त  १९४२ की मध्य रात्रि को महादेव  देसाई का निधन हुआ.महात्मा गांधी के निर्देश पर वहीं उनकी समाधि बनवाई गई और इस समाधि पर न केवल ओम लिखा गया, बल्कि एक क्रास का निशान भी बनाया गया.
aga10aga11
महादेव देसाई के निधन के बाद फरवरी २२,१९४४ को  कस्तूरबा गांधी का निधन हुआ और उनकी भी समाधि देसाई की समाधि के नजदीक ही बनाई गई.गांधी जी की  अस्थियां भी यहीं स्मारक के बागीचे में रखी गई हैं.
aga4aga5
यहीं गांधी जी और बा की  मूर्ति संग्रहालय में देखी जा सकती है.गांधी जी के जीवन पर एक फोटो-प्रदर्शनी और उनके  व्यक्तिगत उपयोग की वस्तुएं जैसे उनकी चप्पलें और चश्मे,डेस्क आदि   भी यहां देखे जा सकते हैं.
aga3aga2
यही अन्य गतिविधियाँ भी सक्रीय हैं जैसे खादी ग्रामो उद्योग ,कुटीर उद्योग ,मोमबत्ती बनाने ,अगरबत्ती ,चाक आदि बनाने के  प्रशिक्षण केंद्र.
राष्ट्रीय महिला संस्था सिलाई कढाई  की  कक्षाएं  चलाती  है.गरीब और जरूरतमंद को  नि: शुल्क प्रशिक्षण दिया जाता है.
प्रति वर्ष निम्न दिवसों पर  आयोजन किये जाते हैं-:
१-शहीदी दिवस [३० जनवरी ]
२-महाशिवरात्रि [कस्तूरबा गांधीजी की पुण्यतिथि]
३-स्वतंत्रता दिवस [१५ अगस्त]
४-गणतंत्र दिवस [२६ जनवरी]
५-बापू  जयंती [२ अक्टूबर]
राष्ट्रीय अवकाश के अतिरिक्त सभी दिन यह  पर्यटकों के लिए खुला है.
http://www.virtualpune.com/html/localguide/attractions/html/aga_khan_palace.shtml
खुलने का समय : सुबह ९ से शाम ६ बजे [१२:३०-१:३० भोजन अवकाश]
प्रवेश हेतु शुल्क है.
अधिक जानकारी के लिए संपर्क इमेल -gandhi_memorial@vsnl.net

7 comments:

Vikesh Badola said...

बहुत बढ़िया जानकारी। नई चीजें पता चलीं। अनुरोध पूर्ति हेतु धन्‍यवाद।

Chaitanyaa Sharma said...

Thanks For Sharing...Informative

Ankur Jain said...

मैनें ये देखा है यकीनन बेहतरीन और दर्शनीय है....

Vinnie Pandit said...

Thanks for giving valuable information.

Please go through my blog Unwarat.com & read my new article Janmashti in Watford London.
Vinnie

ज्योति सिंह said...

alpana tum rahti to bahar ho parantu tumahari aatma hind ki mitti se is tarah judi hui hai ki jara bhi nahi lagta hamse alag rahti ho .itna kuchh to hum yaha rahte huye bhi nahi jaan paye .tumahare gaane sun rahi thi labme samya ke baad yah avasar haath laga ,itna madhur kanth .......saare geet manpasand ke hai ,shukriyaan in sabhi ke liye .

ज्योति सिंह said...

alpana tum rahti to bahar ho parantu tumahari aatma hind ki mitti se is tarah judi hui hai ki jara bhi nahi lagta hamse alag rahti ho .itna kuchh to hum yaha rahte huye bhi nahi jaan paye .tumahare gaane sun rahi thi labme samya ke baad yah avasar haath laga ,itna madhur kanth .......saare geet manpasand ke hai ,shukriyaan in sabhi ke liye .

ज्योति सिंह said...

alpana tum rahti to vatan se door ho par tumahari aatma sadaiv is mitti se judi hui najar aati hai ,is baat ko hum sabhi mahsoos karte hai ,tumhare madhur kanth se gaaye huye gaane ka aanand lekar yahan aai hoon bahut waqt baad tumhare gaye gane ko suna .