Featured Post

सबसे प्राचीन जीवंत हिन्दू मंदिर

Picture from wikipedia मुंडेश्वरी मंदिर  संसार में सबसे प्राचीन जीवंत हिन्दू मंदिर मुंडेश्वरी मंदिर माना जाता है साथ ही भारत में सबस...

जल्द आ रही है एक नयी शृंखला ....

इंसान ने चाहे जितनी भी तरक्की कर ली हो मगर ढ़ेरों ऐसे रहस्य हैं जिनपर से पर्दा उठाना अभी बाकी है.
ऐसी ही कुछ जगहें  हैं जिनके बारे में हम बहुत कुछ सुनते हैं...
प्रमाणों के अभाव में उन बातों को साबित नहीं कर पाते तो कभी कुछ प्रमाण होते हुए भी सहज विश्वास नहीं कर पाते !
विज्ञान की स्नातक हूँ ,अंधविश्वासी कतई नहीं हूँ ...आस्तिक हूँ केवल इतनी कि कोई बहुत बड़ी शक्ति है जो हम सब को नियंत्रित करती है....विज्ञान ,इतिहास से अलग मेरी  रूचि का एक और क्षेत्र  रहा है वह है  'परा मनोवैज्ञानिक' विषय ...
बचपन में एक विशेषांक पढ़ा था ..शायद नव वर्ष पर नवभारत टाइम्स अखबार ने निकला था जिसमें मैडम क्युरी[?] की क्रिस्टल बॉल और ढ़ेरों भविष्यवाणियों का ज़िक्र था ..उस में अलौकिक शक्तियों के विषय में तस्वीरों सहित कुछ किस्से -लेख पढ़े थे तब से इस विषय में खासकर ऐसी जगहों के बारे में जानने की उत्सुकता रही जहाँ ऐसी गतिविधियों को अनुभव किया गया है.

इस शृंखला द्वारा मात्र उन  स्थानों के बारे में पाठक को बताना है जिनके बारे में तरह-तरह की बातें  प्रचलित हैं.जिन्हें 'भूतहा ' कहा जाता है , इन बातों में कितनी सच्चाई है मैं नहीं जानती इसलिए यहाँ लिखी सभी बातों पर विश्वास न करें .

इस कड़ी के लेखों का उद्देश्य अंध विश्वास फैलाना बिलकुल नहीं है ,न ही इन स्थानों के प्रति खौफ पैदा करना बल्कि जिन्हें इस विषय में रूचि है उन के लिए अंतर्जाल के विभिन्न स्त्रोतों से जानकारी एकत्र कर यहाँ उपलब्ध कराना है.

मैं भूत-प्रेतों में विश्वास नहीं करती लेकिन यह मानने को विवश हूँ कि इस लोक से इतर कोई और दुनिया भी इस ब्रह्माण्ड में है जिसके बारे में हम अनजान हैं.
एक न एक दिन उस दुनिया का रहस्य भी वैज्ञानिक ढूँढ़ निकालेंगे.तब तक इन बातों पर जो यहाँ बताई गयी जगहों के बारे में लोग कहते रहते हैं उन्हें जान लें और प्रयास करें कि क्या वाकई इन बातों में कोई सत्य है या नहीं.

इन सभी स्थानों पर जाने वाले लोगों के अनुभव अलग -अलग हैं.इसलिए कोई एक राय बना पाना कठिन है.परामनोविज्ञान के क्षेत्र में काम करने वाले कई लोगों ने इन स्थानों पर जाकर कई प्रयोग किये और अधिकतर मानते हैं हैं कि नकारात्मक ऊर्जा कई स्थानों  पर मिली है.क्या इसी नकारात्मक उर्जा को जन साधारण भूत कह देता है ?
यह सोचना मैं आप पर छोड़ देती हूँ.
मगर इतना ज़रूर कहना चाहूँगी कि अगर आप ऐसे स्थानों पर जा कर अनुभव लेना चाहते हैं तो इन स्थानों के आसपास के स्थानीय लोगों की राय शुमारी भी ज़रूर ले लिजीये.

बस प्रतीक्षा  कीजिए ....जल्द आ रही है यह नयी  शृंखला .......

वृन्दावन

वृन्दावन
----------
उत्तर प्रदेश में वृन्दावन है जो कि मथुरा से १२ किलोमीटर दूर है.
राधा -कृष्ण का ऐसा कौन सा भक्त होगा जो वृन्दावन  को न जानता हो.वहाँ ढ़ेरों मंदिर हैं.लेकिन मैं बांके बिहारी जी और इसकोन मंदिर ही जा सकी,
अब यह कहूँ कि बांके बिहारी जी ने दर्शन देने थे सो सुबह सुबह मंदिर के पट  खुलते ही पहुँच सके  ,और बहुत ही अच्छे दर्शन भी हुए.
सब कुछ अच्छा परन्तु उत्तर प्रदेश में पर्यटन से इतना अधिक राजस्व आता है परन्तु फिर भी इन  स्थलों में व्यवस्था बिलकुल भी अच्छी नहीं है.बांके बिहारी जी के मंदिर तक पहुँचने में ही कठिनाइयां होती हैं ,उस गली के उस संकरे रास्ते को क्यों नहीं सही किया जाता ?
पूरे वृन्दावन में साफ़ सफाई पर ध्यान देने की घोर आवश्यकता है,गलियों में कई जगह नालियाँ खुली हैं जिनसे गुजरते हुए , बदबू आती है ,मुख्य सड़क के दोनों और मंदिर बनते जा रहे हैं जिनकी भव्यता देखते ही बनती है परन्तु क्या ये नए नए मंदिर बनाने वाले शहर की व्यवस्था  नहीं सुधार सकते ?त्यौहार पर सुबह ११ के बाद मुख्य सड़क पर इतनी भीड़ हो जाती है कि पुलिस भी बेबस सी दिखती है.
खैर प्रशासन को सुध लेनी चाहिये कि शहर में मंदिरों के आसपास की जगहें भी साफ़ सुथरी रहें और एक के बाद एक नए खुलते मंदिर ,मंदिर रहें दूकान न बनें!
वृन्दावन राधा रानी की नगरी है ,मिटटी के गिलास में मलाई वाली लस्सी और लौकी की मिठाई मुझे बहुत अच्छी लगी.
वहाँ   स्थित प्रसिद्द वन 'निधिवन'के बारे में अगली पोस्ट्स में..
कुछ तस्वीरें जमा की हैं जिन्हें इस विडियो में डाला है ,आप भी देखें -

==========राधे -राधे ============================
=========================================