रणकपुर जैन मंदिर- ताजमहल से अधिक खूबसूरत कारीगरी



रणकपुर में ऋषभदेव का चतुर्मुखी जैन मंदिर-:

राजस्थान में पाली जिले में स्थित रणकपुर जैन समुदाय के पाँच पवित्र स्थानों में से एक है.

यह स्थान उदयपुर से ९६ किलोमीटर दूर है मगर अधिकतर लोग इसे उदयपुर की ही धरोहर मानते हैं.
इसका निर्माण कार्य राणा कुम्भा के शासन काल में ,1446 विक्रम संवत में शुरू होकर 50 वर्षों से अधिक समय तक चला.

निर्माण में लागत आई---उस समय का लगभग 99 लाख रुपये.

मंदिर की विशेषताओं पर एक नज़र---

१ - मेवाड़ से मारवाड़ के रास्ते अरावली की पहाड़ियों की घाटियों के बीच चारों तरफ से जंगलों से घिरे ,48000 वर्ग फुट[according to indian official site] में बने इस मंदिर में 29 कमरे व 1,444 खम्भे हैं.ये खम्बे इस तरह से बने हैं कि दर्शन में कहीं कोई बाधा नहीं आती.
चार कलात्मक प्रवेश द्वार ,संगमरमर बने पर भगवान ऋषभदेव के पदचिह्न,76 छोटे गुम्बदनुमा पवित्र स्थान, चार बड़े प्रार्थना कक्ष तथा चार बड़े पूजन स्थल हैं.जो कि मनुष्य को जीवन-मृत्यु के चक्करों से मुक्ति प्राप्त कर मोक्ष प्राप्ति के लिए प्रेरित करते हैं.

३-मंडपो में चौबीस तीर्थंकरों की बेहद कुशलता से तराशी हुई मूर्तियां हैं.गलियारे के प्रत्येक मंडप में मंदिर के चारों ओर एक शिखर है जिसके ऊपर छोटी छोटी घंटियां लगी हैं जब कभी हवाएं चलती हैं ये घंटियाँ बज उठती हैं और बेहद मनभावन स्वर्गिक अनुभूति देने वाला संगीत गूँजने लगता है.

४-यह मंदिर तीन मंजिला है ,कहते हैं इसे नौ मंजिला बनाने की योजना थी.

५-420 स्तम्भों से टिकी 80 मीनारों वाले मंदिर के चार छोटे मंदिर और भी हैं.
६-कहरूवा पत्थर में की गयी सुन्दर नक्काशी और अनूठी स्थापत्य कला दर्शाते हुए यह मंदिर अपने आप में कला की अद्भुत मिसाल है.

७-इन्हीं मंदिरों में तहखाने भी बने हैं जो निर्माणकर्ताओं की दूरदर्शिता का परिचायक हैं.

८-इसे चतुर्मुख मंदिर क्यों कहा जाता है ?

मंदिर के मुख्य गृह में तीर्थंकर आदिनाथ की संगमरमर से बनी लगभग ७२ इंच ऊँची चार विशाल मूर्तियाँ हैं जो चार अलग दिशाओं की ओर उन्मुख हैं,इसी कारण इसे चतुर्मुख मंदिर कहा जाता है.

मुख्य मंदिर के सम्मुख बने दो अन्य दो मंदिर जैन संतों पार्श्र्वनाथ व जेनीनाथ के हैं जिनमें खुजुराहो जैसी
कारीगरी देखी जा सकती है.और साथ ही बना सूर्य मंदिर भी देखना न भूलें जहाँ सैनिकों और भव्य रथों पर सवार सूर्य देवातओं के नक्काशीदार चित्रों से अलंकृत बहुमुखी दीवारें हैं.

कैसे जाएँ-

उदयपुर से सड़क मार्ग से टेक्सी या बसों द्वारा पहुंचा जा सकता है.
देश के सभी मुख्य शहरों से राजस्थान का उदयपुर शहर सड़क या वायु मार्ग से जुड़ा हुआ है.

विशेष -:राजस्थान में बने ये विस्मयकारी अद्भुत जैन मंदिर हमारी धरोहर हैं लेकिन दुःख सिर्फ इस बात का है कि ताजमहल जैसा प्रचार रणकपुर ,माउंट आबू और दिलवाड़ा के विख्यात जैन मंदिरों को नहीं मिला अन्यथा इनकी भव्यता और सुन्दरता ताजमहल से कहीं भी कम नहीं है.
Ranakpur Temple Ranakpur Temple24
RanakpurJain Temple 4 RanakpurJain Temple 10
Ranakpur Temple16 Ranakpur Temple14
RanakpurJain Temple 1 Ranakpur Temple21
Ranakpur Temple19 Ranakpur Temple20
RanakpurJain Temple 6 RanakpurJain Temple 9
RanakpurJain Temple 7 Ranakpur Temple18
Ranakpur Temple25 RanakpurJain Temple 3
Ranakpur Temple15 Ranakpur Temple12
RanakpurJain Temple 2 RanakpurJain Temple 5
Ranakpur Temple22 Ranakpur Temple17
 All pictures are taken from google for informational purpose only.


Jain Temple - Ranakpur - Rajasthan - India by sgkmuc

7 comments:

  1. वास्‍तव में ही नक्‍काशी देख कर लगता ही नहीं कि‍ पत्‍थर पर की गई है, लगता है मानो यह लकड़ी हो

    ReplyDelete
  2. यह परम्‍परा सोमपुरा परिवार ने जीवित रखी है.

    ReplyDelete
  3. WOW Never knew about this temple!!

    Thanks for sharing it

    ReplyDelete
  4. वास्‍तव में ही नक्‍काशी देख कर लगता है कि‍ यह परम्‍परा सोमपुरा परिवार ने जीवित रखी है.

    ReplyDelete

आप के विचार आमंत्रित हैं.