Featured Post

सोन भंडार गुफा ,राजगीर [बिहार]

  राजगीर बिहार में एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल है,प्रकृति की सुन्दरता यहाँ देखते बनती है पांच तरफ से पहाड़ियों से घिरे इस क्षेत्र से बानगंगा बह...

'मेघों का घर'-मेघालय



मेघालय अर्थात 'मेघों का घर'!
21 जनवरी, 1972 को मेघालय ,भारत देश के एक पूर्ण राज्‍य के रूप में अस्तित्‍व में आया. जनसंख्या 2,318,822 है.
खासी, गारो तथा अंग्रेजी भाषाओं वाले इस राज्य की राजधानी शिलॉंग है. इसे पूर्वोत्तर का स्कॉटलैंड कहा जाता है.
इस पहाड़ी राज्य के उत्तरी और पूर्वी सीमाएं असम से और दक्षिणी तथा पश्चिमी सीमाएँ बंगलादेश से मिलती हैं.लगभग ८० प्रतिशत जनसंख्‍या आजीविका के लिए मुख्‍य रूप से खेती-बाड़ी पर निर्भर है।‘

त्योहार--का पांबलांग-नोंगक्रेम’ ,शाद सुक मिनसीम, बेहदीनखलम जेंतिया तथा वांगला प्रमुख त्योहार हैं.

आप भी आनंद ले सकते हैं इन खेलों का-Water Sports,Trekking,Archery,River Canyoning, Golf.

मुख्य पर्यटन स्थल-

A-ख़ासी पहाड़ी पर मुख्य पर्यटन स्थल हैं-
शिलॉंग

1-शिलॉंग-:[समुद्र तल से 1496 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और यह असम को काट कर बनाया गया है ]शिलॉंग चोटी, वार्ड लेक, लेडी हैदरी पार्क, संग्रहालय,पोलो ग्राउंड, मिनी चिडियाघर, एलीफेंट जलप्रपात,कैथोलिक, केथेड्रल, आर्चरी और एंगलीकेन सिमेंटरी और चर्च.
यहां का गोल्‍फ कोर्स देश के बेहतरीन गोल्‍फ कोर्सों में से एक हैं.यहाँ की प्राकृतिक खूबसूरती देखते ही बनती है.
2-सोहरा
चेरापूंजी[आधिकारिक नाम-सोहरा]:--शिलॉन्‍ग से 56 किलो मीटर की दूरी चेरापूंजी है.इसे अब 'सोहरा ' कहा जाता है.विश्व के सबसे अधिक वर्षा वाले क्षेत्र में विश्व का पहला वर्षा संग्रहालय बनाने की भी योजना है.
चेरापूंजी अपनी भारी बारिश की वजह से ही गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज था लेकिन अब यह इलाका जलवायु परिवर्तन की चपेट में है।मौसम विभाग के एक अधिकारी डी.के.संगमा बताते हैं कि लगातार भारी बारिश की वजह से इलाके में लाइम स्टोन यानी चूना पत्थर की चट्टानें नंगी हो गई हैं. उन पर कोई पौधा तो उग नहीं सकता. नतीजतन इलाके से हरियाली तेजी से खत्म हो रही है.बारिश पहले के मुकाबले लगभग आधी हो गई है.
विडंबना ही है कि स्थानीय लोगों को अब पीने का पानी खरीदना पड़ता है. एक बाल्टी पानी के लिए छह से सात रूपए देने पड़ते हैं.क्या कोपेनहेगेन सम्मेलन से इस सूखते कस्बे की प्यास बुझाने की कोई राह निकलेगी, इस सवाल का जवाब तो बाद में मिलेगा. लेकिन तब तक शायद यह कस्बा पानी की एक-एक बूंद का मोहताज हो जाएगा.
[साभार -रिपोर्ट: प्रभाकर मणि तिवारी, कोलकाता-december,2009]
पर्यटन स्थल-:माकडॉक / डिमपेप घाटी का दृश्‍य,सोहरा बाजार और रामकृष्‍ण का मंदिर, संग्रहालय, नोखालीकाई जल प्रापत, प्रथम प्री साइबेरियन चर्च, वेल्‍श मिशनरियों की दरगाहें, एंगलिकन सिमेंटरी, इको पार्क डबल डेकर रुट ब्रीज़, चेरापूंजी मौसम विज्ञान वेधशाला.
Umiam Lake
3-Other attractions-Smit,Mawphlang,Mawphlang Sacred Forest[Location: East Khasi Hills District ],Nongkhnum Island,Laitkynsew, Umiam Lake ,Lum Sohpetbneng,Diengiei Peak,Dwarksuid,
Jakrem Hot Spring,Ranikor,Mawlynnong Village[cleanest village in India.]

B-गारो पहाड़ी पर पर्यटन स्थल -:
Tetengkol
Tura,Tura Peak,Nokrek Biosphere,Chibragre,Pelga Falls,
Rongbang Dare,Sasatgre Village,Bhaitbari,Rangapani,Williamnagar,Rongrenggiri,Sisobibra,Adokgre,Naka-Chikong,
Resubelpara,Baghmara,Baghmara Reserve Forest,Nengkong,Siju,Balpakram,Imilchang Dare,
Emangre,Dombeware.

C-जैंतिया पहाड़ी पर मुख्य पर्यटन स्थल हैं-
Jowai,Nartiang,Nartiang Monoliths,Durga Temple at Nartiang,Khim Moo Sniang[pig shaped rock],Umhang Lake,Syntu Ksiar[picnic spot],Stone Bridge at Thlumuwi,Muwi Waterfalls,Dawki,Iawmusiang[largest Jaintia market ],Ruparsor bathing ghat,U Lum Sunaraja[deep lake believed by the locals to be the spot where old and aged elephants go to die by plunging themselves into the deep pool],Umlawan Cave ,Lady of good Health Shrine ,Borghat Temple ,Jarain Pitcher Plant Lake,Krang Suri Falls ,Ialong Park,Tyrshi Falls,Iooksi (Kupli) Park,'यू कियांग नोंगा बा 'स्मारक.
यू कियांग नोंगा बा स्मारक
'यू कियांग नोंगा बा 'शहीद स्मारक है.जिसे वीर शहीद 'यू कियांग नोंगा बा'की याद में बनवाया गया था.
'तोगान संगमा,यू तिरोत गाओ,यू कियांग नोंगाबा -'राज्य के इन तीन वीर शहीदों के नाम भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखे गये हैं.
जानते हैं इसी राज्य के शहीद 'यू कियांग नोंगा बा'के बारे में -

यू कियांग नोंगा बा ने १८५७ में अंग्रेजों के खिलाफ सिपाही विद्रोह में मेघालय के आदिवासियों का नेतृत्व किया था.
राजा राजेंद्र सिंह जयन्तीयापुर के राजा थे,ब्रिटिश सरकार ने धोके से उनका मैदानी राज्य हथिया लिया था.और उन्हे पहाड़ी इलाक़े का प्रशसन देने का विकल्प रखा जिसे राजा ने ठुकरा दिया.
१८३५ से १८५३ तक जैसे तैसे सब चलता रहा लेकिन जब १८६० में अँग्रेज़ी हुकूमत ने निवासीओं पर गृह कर लगा दिए तब उनके सब्र का बाँध टूट गया और विरोध की आवाज़ें गूंजने लगीं.उसी साल जब गृह कर के साथ साथ आयकर भी लगा दिया गया और यह भी अफवाहें घूमने लगी की पॅयन और सुपारी की बिक्री पर भी सरकार टेक्स लगाने जा रही है तब स्थानीय लोगों ने गुट बनाए और विद्रोह के आयोजन का नेतृत्व और मार्गदर्शन किया युवक यू कियांग नोंगा बा ने !
१८६२ में उठी क्रांति की लहरें इतनी तेज़ थी कि सात रेजिमेंटों और सैनिकों की टुकड़ी इनके विद्रोह को दबाने के लिए लगवाई गयी.यू कियांग नोंगा बा बेहद चतुर था वा अपना सभी कार्य बहुत सफाई से करता था जिस से वह काफ़ी समय तक गिरफ्तारी से बचता रहा.यहाँ तक की ब्रिटिश गुप्तचर भी परेशान हो गये थे.मगर उसकी पहचान ना पा सके.दूसरा विद्रोह ३ सप्ताह चला और उस में बहुत से आदिवासी मारे गये.
३० दिसंबर ,१८६२ में यू कियोंग को धोखे से पकड़ लिया गया और सरे आम फाँसी दी गयी.यू कियांग ने फाँसी लगने से पहले साफ शब्दों में लोगों से कहा था कि फाँसी लगने के बाद रस्सी पर मेरा सिर अगर पूर्व की तरफ लटकता है तो यह देश १०० साल के भीतर आज़ाद हो जाएगा.और अगर यह पश्चिम की तरफ होता है तो यह देश अँग्रेज़ों से कभी आज़ाद नहीं हो पाएगा.
कितने सच उनके शब्द थे, उनके चेहरे के लिए पूर्व की ओर हो गया और भारत के एक सौ साल के भीतर मुक्त हो गया!
ऐसे वीर शहीदों को कभी भूलना नहीं चाहीए जिनके बलिदान से ही आज हम खुली हवा में जी रहे हैं साथ ही अपनी इस आज़ादी को बचाए रखना और देश को एकता में बाँधे रखना भी बेहद आवश्यक है.
-------------------------------------------------------------------------
कैसे जाएँ-
1- इस राज्य का एक मात्र हवाई अड्डा उमरोई में हैं.
M.T.C. Bus Service from Shillong to Umroi Airport.Another convenient airport, the Gopinath Bordoloi Airport in Guwahati (128 km from Shillong) is connected to rest of India with regular flights.
2-Helicopter Service

Helicopter is available from Guwahati to Tura and Tura to Shillong on Monday/Tuesday/Wednesday/Friday and from Guwahati to Shillong and Shillong to Guwahati daily except on Sunday.

2-by Rail-The nearest railway station is Guwahati. It is 104 km from Shillong and very well connected with all major cities of India.
3-By Road-
National Highway 40, an all-weather road, connects Shillong with Guwahati. State's Transport Corporation and private transport operators have services to various places in Meghalaya and to neighbouring states.
पर्यटकों के रहने के लिए प्राइवेट ही नहीं सरकार के गेस्ट हाउस भी उपलब्ध हैं.
अधिक जानकारी के लिए अधिकारिक वेब साइट देखीए-
http://meghalaya.nic.in/

http://megtourism.gov.in/touroperators.html
-----------------------------------------------

4 comments:

P.N. Subramanian said...

इतने सुन्दर चित्रों से सुसज्जित इतनी अच्छी जानकारी! यू कियांग नोंगा बा के बारे में तो हमने पहली बार जाना. बहुत आभार.

हृदय पुष्प said...

बहुत सुंदर और ज्ञानवर्धक भी.

डॉ. मनोज मिश्र said...

behtreen jaankaaree,bahut dhnyavaad.

मो सम कौन ? said...

हमेशा की तरह बहुत अच्छी जानकारी देती पोस्ट। शहीद ’यू कियांग नोंगा बा’ के बारे में पहली बार जाना और गौरव महसूस किया। ऐसे कितने ही वीरों ने अपना जीवन बलिदान किया तो हमें आजादी नसीब हुई, लेकिन चंद लोगों के महिमामंडन के चलते ऐसे कितने ही शहीदों की शहादत अपने क्षेत्र विशेष के बाहर के लोगों को मालूम भी नहीं चली। मैडम, फ़िर कहूंगा आप एक बहुत सार्थक कार्य कर रही हैं। पर्यटन के साथ-साथ देश के विभिन्न हिस्सों की बहुआयामी जानकारी हमें घर बैठे उपलब्ध हो रही है और वो भी बहुत संतुलित ढंग से।
हार्दिक धन्यवाद